Hindi poem

मेरे यार !

तेरी गाली से भी
होता है, दिल खुश ।
तेरी इक मुस्कान पे
कुर्बान है, सब कुछ !

चाहे हो कहीं भी,
दुआओ में हमेशा रहता है ।
जो मिले तो , ” थम जा “
वक्त ये पल से कहता है !

छोड़ा है जब जब
दुनिया ने मेरा साथ ,
हाथो में हमेशा पाया,
मैंने तेरा हाथ !

गलतियां दिखाई तुने
मिटाके खोकला झांक ।
पर हौसले को ना होने दिया,
तुने कभी खाक !

नसीब से मिलता है,
ऐसा कोई राही !
जो तेरे लिए मांगे,
जो खुशी तुने चाही !

गर बिछड़ा है कहीं,
तो जरा सुन ले !
मन में प्यार है बहोत ,
तेरे हिस्से का सारा बुन ले !

बातों से होते है झगडे,
झगड़ों से बढ़ता है प्यार !
बस ना जुदा होना ,
रहना साथ मेरे यार !
रहना साथ मेरे यार !

– उलुपी

Happy friendship day ❤️

Video credits to inshot app ! Pics in video are taken from internet . Thanks to original sources !

6 thoughts on “मेरे यार !”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s